भारत रत्‍न डॉ. बाबासाहेब अंबेडकर भारत के महान नेता, विचारक और समाज सुधारक थे। उन्होंने अपने जीवन में कई महत्वपूर्ण पुस्तकें लिखीं, जो सामाजिक न्याय, समानता और मानवता के मूल्यों को प्रोत्साहित करती हैं। अंबेडकर की पुस्तकें न केवल दलितों और शोषितों के अधिकारों की वकालत करती हैं, बल्कि पूरे समाज को एक नई दिशा देने में भी सक्षम हैं। इस लेख में हम डॉ. अंबेडकर द्वारा लिखित सर्वश्रेष्ठ हिंदी पुस्तकों की चर्चा करेंगे, जो उनके विचारों और दर्शन को समझने के लिए आवश्यक हैं। हम उनकी प्रमुख रचनाओं जैसे ‘बुद्ध और उनका धम्म’, ‘अछूत कौन थे और वे अछूत कैसे बने’, ‘जाति प्रथा: उन्मूलन का मार्ग’, ‘पाकिस्तान या भारत का विभाजन’ और ‘प्रबुद्ध भारत’ आदि पर प्रकाश डालेंगे और उनके महत्व को समझेंगे। साथ ही, हम यह भी जानेंगे कि अंबेडकर की विचारधारा आज भी क्यों प्रासंगिक है और हमें किस प्रकार प्रेरित करती है।

डॉ. बी.आर. अम्बेडकर द्वारा लिखित (या हिंदी में अनुवादित) पुस्तकों की सूची/List:

क्रम संख्यापुस्तक/पत्रिका का नाम (हिंदी, अंग्रेजी और प्रकाशन वर्ष)विषय
1बुद्ध और उनका धम्म (The Buddha and His Dhamma) (1957)बौद्ध धर्म और दर्शन
2अछूत कौन थे और वे अछूत कैसे बने (Who Were the Shudras?) (1948)दलित समस्या और समाधान
3जाति प्रथा: उन्मूलन का मार्ग (Annihilation of Caste) (1936)जाति व्यवस्था और उसके उन्मूलन के उपाय
4प्रबुद्ध भारत (Prabuddha Bharat) (पत्रिका/Magazine) (1956)दलित चेतना और आंदोलन
5अस्पृश्यता और उसका निवारण (Untouchability and its Prevention) (1933)अस्पृश्यता की समस्या और समाधान
6भारत में जातिवाद (Castes in India) (1917)जाति व्यवस्था और इसका प्रभाव
7बहिष्कृत भारत (Ostracized India) (1927)दलितों का सशक्तीकरण
8हिंदू धर्म और उसमें सुधार (Hinduism and Its Reform) (1950)हिंदू धर्म में सुधार के उपाय
9भगवान बुद्ध और उनका धर्म (The Buddha and His Religion) (1940)बौद्ध धर्म और उसकी शिक्षाएं
10बौद्ध धर्म और कम्युनिज्म (Buddhism and Communism) (1956)बौद्ध धर्म और कम्युनिज्म में समानताएं
11पाकिस्तान या भारत का विभाजन (Pakistan or The Partition of India) (1940)भारत का विभाजन और पाकिस्तान का निर्माण
12भारत का संविधान (The Constitution of India) (1949)भारतीय संविधान
13रुपये की समस्या (The Problem of Rupee) (1923)भारतीय मुद्रा की समस्या
14डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर जीवन चरित (मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी) Dr. Babasaheb Ambedkar: A Biography (My Story in My Words)डॉ. अम्बेडकर का जीवन परिचय
15पाकिस्तान या भारत का विभाजन (Pakistan or The Partition of India / Thoughts on Pakistan) (1945)भारत का विभाजन और पाकिस्तान पर विचार
16रानाडे, गांधी और जिन्ना (Ranade, Gandhi and Jinnah) (1943)भारतीय राजनीति के तीन महत्वपूर्ण नेता
17वीसा की प्रतीक्षा में (Waiting for a Visa) (1935-36)डॉ. अम्बेडकर के जीवन के संघर्ष
18बुद्ध या कार्ल मार्क्स? (Buddha or Karl Marx?) (1956)बौद्ध धर्म बनाम कम्युनिज़्म
19राम और कृष्ण की पहेलियाँ (The Riddles of Rama and Krishna) (1956)हिंदू धर्म के दो प्रमुख देवताओं पर प्रश्न
20भारत में जातियाँ (Castes in India) (1917)भारत में जाति व्यवस्था
21काठमांडू का भाषण (Speech at Kathmandu) (1956)नेपाल में दिया गया डॉ. अम्बेडकर का भाषण
22कांग्रेस और गांधी ने अछूतों के साथ क्या किया (What Congress and Gandhi have done to the Untouchables) (1945)कांग्रेस और गांधी की अछूतों के प्रति नीति
23प्राचीन भारत में क्रांति और प्रतिक्रांति (Revolution and Counter-revolution in Ancient India) (1987)प्राचीन भारत में सामाजिक परिवर्तन
24पूना पैक्ट (Poona Pact) (1932)गांधी और अम्बेडकर के बीच हुआ ऐतिहासिक समझौता
Table with List of books written by Dr. Ambedkar

डॉ. अम्बेडकर द्वारा लिखित प्रमुख पुस्तकों का विवरण:

डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ने अपने जीवन में विभिन्न विषयों पर कई महत्वपूर्ण पुस्तकें लिखीं। ये पुस्तकें सामाजिक समता, दलित अधिकार, बौद्ध धर्म, भारतीय अर्थव्यवस्था और राजनीति जैसे कई विषयों पर केंद्रित हैं। कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें निम्नलिखित हैं:

#1. बुद्ध और उनका धम्म

इस पुस्तक में अंबेडकर ने बौद्ध धर्म और दर्शन पर विस्तार से लिखा है। वे बुद्ध के सिद्धांतों को समता और करुणा पर आधारित मानते थे और इसीलिए उन्होंने बौद्ध धर्म को अपनाने का निर्णय लिया। अंबेडकर ने इस पुस्तक में बताया कि बुद्ध का धम्म किस प्रकार जाति व्यवस्था और सामाजिक भेदभाव का विरोध करता है और सभी मनुष्यों को समान मानता है। साथ ही, बौद्ध धर्म की हिंदू धर्म के साथ समानताएँ, जैसे पुनर्जन्म और कर्म के सिद्धांत, भी अंबेडकर के इस निर्णय में एक महत्वपूर्ण कारक थीं। उन्होंने महसूस किया कि बौद्ध धर्म अपनाना हिंदू समाज के लिए अधिक स्वीकार्य होगा।

उन्होंने बुद्ध के करुणा, अहिंसा और प्रज्ञा के सिद्धांतों पर भी प्रकाश डाला है। यह पुस्तक धर्म और दर्शन में रुचि रखने वाले पाठकों के लिए एक महत्वपूर्ण और ज्ञानवर्धक रचना है। वे बुद्ध के धम्म को एक वैज्ञानिक और तार्किक दर्शन मानते थे, जो मानवता को दुख और पीड़ा से मुक्ति दिलाने में सक्षम है।

#2. हिंदू धर्म और उसमें सुधार (Hinduism and Its Reform)

इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने हिंदू धर्म की कमियों और उसमें सुधार की आवश्यकता पर प्रकाश डाला है। उन्होंने बताया है कि हिंदू धर्म में जाति प्रथा, अस्पृश्यता और स्त्री-पुरुष असमानता जैसी कुरीतियाँ व्याप्त हैं, जिनका उन्मूलन आवश्यक है। साथ ही, उन्होंने हिंदू धर्म को अधिक समतामूलक और तर्कसंगत बनाने के उपायों पर भी चर्चा की है।

#3. पाकिस्तान या भारत का विभाजन (Pakistan or The Partition of India)

यह पुस्तक 1940 में प्रकाशित हुई थी और इसमें डॉ. अम्बेडकर ने भारत के विभाजन और पाकिस्तान के निर्माण के मुद्दे पर अपने विचार व्यक्त किए हैं। उन्होंने इस पुस्तक में विभाजन के कारणों और इसके दुष्परिणामों पर विस्तार से चर्चा की है। साथ ही, उन्होंने एक धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक भारत के निर्माण पर भी बल दिया है।

#4. अछूत कौन था और वे अछूत कैसे बने (The Untouchables : Who were they and why they bacame untouchables)

‘अछूत कौन और कैसे’ डॉ. अंबेडकर की एक अन्य महत्वपूर्ण पुस्तक है, जिसमें उन्होंने भारतीय समाज में व्याप्त जाति व्यवस्था और अस्पृश्यता की समस्या पर विस्तार से चर्चा की है। अंबेडकर ने इस पुस्तक में बताया है कि अस्पृश्यता की समस्या केवल दलितों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह पूरे समाज को प्रभावित करती है।

उन्होंने इस पुस्तक में अस्पृश्यता के कारणों और इसके दुष्प्रभावों का विश्लेषण किया है। साथ ही, उन्होंने इस समस्या के समाधान के लिए कुछ ठोस सुझाव भी दिए हैं, जैसे शिक्षा का प्रसार, जागरूकता अभियान और कानूनी सुधार। यह पुस्तक सामाजिक समता के पक्षधरों के लिए एक मील का पत्थर साबित हुई है।

#5. जाति प्रथा: उन्मूलन का मार्ग

‘जाति प्रथा: उन्मूलन का मार्ग’ डॉ. अंबेडकर की एक अन्य महत्वपूर्ण कृति है, जिसमें उन्होंने भारतीय समाज में व्याप्त जाति व्यवस्था और इसके उन्मूलन के उपायों पर विस्तार से चर्चा की है। अंबेडकर मानते थे कि जाति प्रथा भारतीय समाज की प्रगति में सबसे बड़ी बाधा है और इसका उन्मूलन अत्यंत आवश्यक है।

उन्होंने सुझाव दिया है कि जाति प्रथा के उन्मूलन के लिए सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक स्तर पर व्यापक प्रयास करने होंगे। यह सामाजिक सुधार में रुचि रखने वाले पाठकों के लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है।

यह डॉ. अम्बेडकर की सबसे प्रसिद्ध पुस्तकों में से एक है।

#6. रुपये की समस्या (The Problem of Rupee)

इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने भारतीय मुद्रा (रुपये) की समस्याओं और उनके समाधान पर विस्तार से चर्चा की है। उन्होंने बताया है कि किस प्रकार भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए रुपये की स्थिरता और मूल्य को बनाए रखना आवश्यक है। साथ ही, उन्होंने मुद्रा प्रबंधन के विभिन्न पहलुओं पर भी प्रकाश डाला है।

#7. कांग्रेस और गांधी ने अछूतों के साथ क्या किया (What Congress and Gandhi have done to the Untouchables)

इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और महात्मा गांधी की अछूतों और दलितों के प्रति नीतियों की आलोचना की है। उन्होंने बताया है कि किस प्रकार कांग्रेस और गांधी ने दलितों के हितों की अनदेखी करते हुए उनके उत्थान के लिए ठोस कदम नहीं उठाए। इस पुस्तक में उन्होंने दलितों के अधिकारों और उनके सशक्तीकरण पर भी बल दिया है।

#8. प्रबुद्ध भारत

‘प्रबुद्ध भारत’ डॉ. अंबेडकर द्वारा संपादित एक पत्रिका थी, जिसका प्रकाशन 1956 में शुरू हुआ था। इस पत्रिका का उद्देश्य दलित समुदाय में चेतना और जागरूकता का प्रसार करना था। अंबेडकर ने इस पत्रिका के माध्यम से दलितों के अधिकारों और उनकी समस्याओं पर प्रकाश डाला और उनके उत्थान के लिए संघर्ष किया।

‘प्रबुद्ध भारत’ में प्रकाशित लेख और आलेख आज भी दलित साहित्य और आंदोलन के लिए प्रेरणा का स्रोत हैं। यह पत्रिका दलित अधिकारों के लिए संघर्ष करने वालों के लिए एक मार्गदर्शक है और उनके संघर्ष को नई ऊर्जा प्रदान करती है।

#9. भारत का संविधान (The Constitution of India)

भारत का संविधान देश का सर्वोच्च कानून है, जिसका निर्माण डॉ. अम्बेडकर की अध्यक्षता में गठित संविधान सभा ने किया था। इस पुस्तक में भारतीय संविधान के मूल सिद्धांतों, मौलिक अधिकारों और राज्य के नीति-निर्देशक तत्वों का विस्तार से वर्णन किया गया है। यह पुस्तक हर भारतीय नागरिक के लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज़ है।

#10. वीसा की प्रतीक्षा में (Waiting for a Visa)

यह पुस्तक डॉ. अम्बेडकर के जीवन के संघर्षों पर आधारित है, जिसमें उन्होंने अपने विदेश यात्रा के अनुभवों को साझा किया है। इस पुस्तक में उन्होंने बताया है कि किस प्रकार जाति और अस्पृश्यता के कारण उन्हें विदेश जाने और वहां शिक्षा ग्रहण करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। यह पुस्तक हमें डॉ. अम्बेडकर के जीवन के संघर्षों और उनके द्वारा किए गए सामाजिक परिवर्तनों को समझने में मदद करती है।

#11. बुद्ध या कार्ल मार्क्स? (Buddha or Karl Marx?)

इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने बौद्ध धर्म और कम्युनिज़्म में समानताओं और विभिन्नताओ पर चर्चा की है। उन्होंने बताया है कि दोनों ही विचारधाराएँ समाज में समता की स्थापना के लिए प्रयास करती हैं, लेकिन उनके तरीके अलग-अलग हैं।

हालाँकि, उन्होंने बौद्ध धर्म को कम्युनिज़्म से श्रेष्ठ बताते हुए कहा है कि बौद्ध धर्म अहिंसा और करुणा पर आधारित है। जहाँ बौद्ध धर्म अहिंसा और करुणा पर बल देता है, वहीं कम्युनिज़्म बलपूर्वक क्रांति और वर्ग संघर्ष में विश्वास करता है।

#12. अस्पृश्यता और उसका निवारण (Untouchability and its Prevention)

इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने भारतीय समाज में व्याप्त अस्पृश्यता की समस्या और उसके निवारण के उपायों पर विस्तार से चर्चा की है। उन्होंने बताया है कि अस्पृश्यता एक सामाजिक बुराई है, जो मानवता के खिलाफ है और इसका उन्मूलन आवश्यक है। साथ ही, उन्होंने अस्पृश्यता के खिलाफ कानूनी और सामाजिक उपायों पर भी बल दिया है।

#13. रानाडे, गांधी और जिन्ना (Ranade, Gandhi and Jinnah)

इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने भारतीय राजनीति के तीन महत्वपूर्ण नेताओं – महादेव गोविंद रानाडे, महात्मा गांधी और मोहम्मद अली जिन्ना के विचारों और योगदान का विश्लेषण किया है। उन्होंने इन नेताओं की राजनीतिक विचारधाराओं और रणनीतियों की तुलना करते हुए उनके प्रभाव और महत्व पर प्रकाश डाला है।

#14. डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर जीवन चरित (मेरी कहानी मेरी ज़ुबानी) [Dr. Babasaheb Ambedkar: A Biography (My Story in My Words)]

यह पुस्तक डॉ. अम्बेडकर के जीवन और संघर्षों पर आधारित एक जीवनी है, जो उनके स्वयं के शब्दों में लिखी गई है। इस पुस्तक में डॉ. अम्बेडकर ने अपने बचपन, शिक्षा, संघर्षों और उपलब्धियों के बारे में विस्तार से बताया है। यह पुस्तक उनके जीवन और व्यक्तित्व को समझने के लिए एक महत्वपूर्ण स्रोत है।


निष्कर्ष

डॉ. बी.आर. अंबेडकर द्वारा लिखित ये पुस्तकें न केवल भारतीय समाज में व्याप्त सामाजिक समस्याओं पर प्रकाश डालती हैं, बल्कि इनके समाधान के लिए मार्ग भी सुझाती हैं। अंबेडकर का लेखन समाज के हर वर्ग के लिए उपयोगी है और हमें एक न्यायपूर्ण और समतामूलक समाज के निर्माण के लिए प्रेरित करता है। उनकी विचारधारा और दर्शन आज भी प्रासंगिक हैं और भारतीय समाज को एक नई दिशा देने में सक्षम हैं।


अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. क्या अंबेडकर की पुस्तकें केवल दलितों के लिए ही उपयोगी हैं?

नहीं, अंबेडकर की पुस्तकें पूरे समाज के लिए उपयोगी हैं। वे समानता और मानवता के मूल्यों को प्रोत्साहित करती हैं, जो हर वर्ग के लिए महत्वपूर्ण हैं।

2. क्या अंबेडकर की पुस्तकें आज भी प्रासंगिक हैं?

हां, अंबेडकर की पुस्तकें आज भी प्रासंगिक हैं। भारतीय समाज में आज भी जाति व्यवस्था और सामाजिक असमानता जैसी समस्याएं व्याप्त हैं, और अंबेडकर के विचार इन समस्याओं के समाधान के लिए एक मार्गदर्शक हैं।

3. क्या अंबेडकर हिंदू धर्म का विरोध करते थे या उसमें सुधार की वकालत करते थे?

डॉ. अंबेडकर हिंदू धर्म का पूर्ण रूपेण विरोध नहीं करते थे, बल्कि वे इसमें व्याप्त कुरीतियों और असमानताओं का विरोध करते थे। वे हिंदू धर्म में सुधार की वकालत करते थे और इसे अधिक समतामूलक और तर्कसंगत बनाना चाहते थे। उन्होंने हिंदू धर्म में जाति प्रथा, अस्पृश्यता और स्त्री-पुरुष असमानता जैसी बुराइयों का विरोध किया और इनके उन्मूलन पर बल दिया। साथ ही, उन्होंने बौद्ध धर्म को एक वैकल्पिक और प्रगतिशील धर्म के रूप में प्रस्तुत किया, जो समानता और करुणा पर आधारित है।